Tagged: ग़ज़ल

0

मैं मांगती रही खुदा से तुम्हें आशिर्वाद की तरह

मैं मांगती रही खुदा से तुम्हें आशिर्वाद की तरह , तुम सरे आम बंटते रहे प्रसाद की तरह। चाहत तेरी थी अब किस अंदाज में कहें, जब जब हंसना चाहा आँसू निकल पड़े। तेरी...