Tagged: पैरों में बांध ये घुंघरू

0

मेरा क्या कसूर

पैरों में बांध ये घुंघरू मेरे मुझे बीच बाज़ार लाया गया है, खुद को बचाकर कलंक वैश्या का मेरे सर लगाया गया है, थी मैं नादान छोटी सी बच्ची जब लाई गई बाज़ार में,...