Category: safar poem

0

वक्त की हवाओं का यारों असर देख लो – Hindi Shayri for You

वक्त की हवाओं का यारों असर देख लो,बिख़रे हुए पत्तों का ये मंज़र देख लो। शौक से छुप जाओ बेवफाई के जंगल में,पहले मेरी आंखों में वफ़ा का खंज़र देख लो। अश्कों से उभर...

अनजान सफर…Inspirational Hindi Poem 0

अनजान सफर…Inspirational Hindi Poem

अनजान सफ़र चले जाता हूँ सुने सड़कों पर सैंकड़ो की भीड़ में यूँ अकेला अनजान राहों की मस्तियों में एक अनजान सफ़र की ओर अकेला पत्थरों की ठोकर ने, घर की याद यूँ दिलाई...