Category: poem in hindi

0

love poetry in hindi for boyfriend

सुनो, तुम मेरा खूबसूरत ख्वाब ही हो, जिसे आंख बंद हो या खुली, मैं देखती रहती हूँ, तुम हकीकत हो या नहीं, जब जगती हूँ तो घंटो सोचती रहती हूँ.. क्या सच में होता...

उम्मीदों की कोंपल (कविता) 0

उम्मीदों की कोंपल (कविता)

उम्मीदों की कोंपल मन की पीड़ा , क्यों थाम लेती है अश्को को दामन अंखियो से लगती है झड़ी जैसे सावन की | रिश्तो की बगिया में आ गया मौसम क्यों पतझड़ का ,...