Category: Hindi Shayari

इतनी रोई हैं आँखें के आँसू बहाना मुझे अब याद नहीं रहता ! हिंदी ग़ज़ल 0

इतनी रोई हैं आँखें के आँसू बहाना मुझे अब याद नहीं रहता ! हिंदी ग़ज़ल

इतनी रोई हैं आँखें के आँसू बहानामुझे अब याद नहीं रहता,आँखों में ख़ुशी के मोती पिरोना,मुझे अब याद नहीं रहता ॥ यूँ टूट कर बिखरी है कितनी तमन्नाएं,के इन ख़्वाइशों को सजाना,मुझे अब याद...

इंसान जाने कहां खो गये- हिंदी कविता 0

इंसान जाने कहां खो गये- हिंदी कविता

इंसान जाने कहां खो गये- “जाने क्यूंअब शर्म से, चेहरे गुलाब नही होते।जाने क्यूंअब मस्त मौला मिजाज नही होते। पहले बता दिया करते थे, दिल की बातें।जाने क्यूंअब चेहरे, खुली किताब नही होते। सुना...