Category: Ghazal in hindi

0

मेरा क्या कसूर

पैरों में बांध ये घुंघरू मेरे मुझे बीच बाज़ार लाया गया है, खुद को बचाकर कलंक वैश्या का मेरे सर लगाया गया है, थी मैं नादान छोटी सी बच्ची जब लाई गई बाज़ार में,...

0

ये दिल मिरा मचल गया

ये गुलबहार देख कर ये दिल मिरा मचल गया बनूँ मैं सुर्ख़ इक शजर ये दिल मिरा मचल गया बरस रही हों आसमां से वारिशें जो आग की जलूँ मैं बनके गुलमुहर ये दिल...

0

मैं मांगती रही खुदा से तुम्हें आशिर्वाद की तरह

मैं मांगती रही खुदा से तुम्हें आशिर्वाद की तरह , तुम सरे आम बंटते रहे प्रसाद की तरह। चाहत तेरी थी अब किस अंदाज में कहें, जब जब हंसना चाहा आँसू निकल पड़े। तेरी...

0

कहाँ झूठे दिलासों से मुझे आराम आएगा ( Urdu Ghazal )

कहाँ झूठे दिलासों से मुझे आराम आएगा। सुकूं दिल को मिलेगा जब तेरा पैग़ाम आएगा।। लबों पर आह है दिल में ख़लिश आंखों में वीरानी। अग़र आग़ाज़ ऐसा है तो क्या अंज़ाम आएगा।। मना...

0

हिंदी उर्दू ग़ज़ल – Best Romantic Ghazal in Hindi by Salil Saroj

जिनको जीना है,वो उनकी आँखों से जाम पिया करें और इसी तरह अपने जीने का सामान किया करें खुदा किसी के मकाँ का शौकीन तो नहीं रहा तो दिल में ही कभी आरती तो...

तेरे करीब आ गया हूँ ! लव गजल 0

तेरे करीब आ गया हूँ ! लव गजल

कैसे-कैसे मैं तेरे करीब आ गया हूँ.दोस्ती से चाहत के करीब आ गया हूं. मुझ में आ गया है हुनर तुझ में फना होने का.इश्क की कलमा पढ़ नसीब आ गया हूँ. हो गया...