Category: Best Hindi Poem

0

दालान के वे दिन

  दालान के वे दिन ! _______________ वर्ष के सबसे काठिन्य दिनों में भी , बसंत में परिवेष्टित डूबा हुआ , न कुंठित न स्तम्भित श्वास तरंगी प्रतिक्षण शून्य में भी निरत रचने पर्वत...

0

मीरा – तुम मुझे बेहद पंसद हो Hindi Poetry

मीरा  तुम मुझे बेहद पंसद हो इसलिये नहीं कि तुम कृष्ण भक्त हो पसंद हो क्यूँकि स्त्री इतिहास में तुम एक सशक्त स्त्री हो महल बना पिंजरा सोने का सांमती युग की थी मनमानी...

0

कविता – प्रभु का घर

“प्रभु का घर” एक बात अंदर ही अंदर बङी कचोटती है मुझे हे प्रभु जब तालों में बंद हुआ देखती हूँ तुझे जो सर्व शक्तिमान है जिसनें रचा ये जहान है उस परम आद्य...

0

Best hindi poem lines by मेजर (डा) शालिनी सिंह

हर संतान जन्म लेने से पहले पुरूष होती है…… दुआ में  आशीष में मन्नत में व्रतों में ख़्वाबों में ख़यालों में सम्बोधन में कोख की हलचल में हर स्त्री जन्म लेने के बाद संतान...

0

बस यूँही चलते चलते- ( Hindi Poetry )

बस यूँही चलते चलते —————————– ख़्वाब भी अब मेरे ख़्वाब होने लगे हैं, जबसे वो खुलके बन्द किताब होने लगे हैं। सिर्फ़ मैं ही नही रहा उनका अब खैख़्वाह, दिल में बसने को उनके...

0

मैकदा और मीना अच्छा लगता है

      मैकदा और मीना अच्छा लगता है     प्यास कब से थी मरघटों सी मेरे लबों पे तुझे पा के फिर से जीना अच्छा लगता है   तेरे चेहरे पे मुस्कान...

0

हिंदी काव्य- माया लोक की माया नगरी मे

मेरी ख़ामोश छींके उठ रही, दिल है भारी भारी , जागती रैना सारी सारी, आँखें बंद निंदिया ना आयी , दिल मे भरी दर्द बयान हो रहा, इन शब्दों के ज़रिए , जान है...

0

सलिल सरोज की कविता : आधा प्रेम

मेरे खेत की मुँडेर पर वो उदास शाम आज भी उसी तरह बेसुध बैठी है जिसकी साँसें सर्दी की लिहाफ लपेटे ऐंठी है मुझे अच्छी तरह याद है वो शाम जब तुम दुल्हन की...

0

Read Best Hindi Poetry By Salil Saroj :- तुझे चाहिए तो तू मेरा जिस्मों-जान रख

तुझे चाहिए तो तू मेरा जिस्मों-जान रख पर अपनी तबियत में भी थोड़ा ईमान रख तेरा घर क्यों बहुत सूना-सूना लगता है  मेरी मान,घर में कोई बेटी सा भगवान रख कोई ज़ुल्फ़परस्त की दरिन्दगी...

0

ज़िन्दगी – जादू की पुडिया ? Zindgi – Jadu Ki Pudiya

पल पल पल जाने किस पल , ख़ुशी हो या फिर ग़म सबी को बीत जाना है वक़्त के साथ, जो भी होना है वही होता है, जो भी सहना है सहना ही है,...