Category: ग़ज़ल

0

तेरा एहसास – Best Hindi Love Poetry By Sonam Satya

( तेरा एहसास )   क्यों तेरा मिलना एक अधूरा सपना सा लगे है फिर भी तेरा एहसास मुझे अपना सा लगे है,   तू मेरे साथ कहीँ नहीँ है फिर भी तेरा साया...

ग़ज़ल – तेरे ख़तो से रुह निकालने कि कोशिश की है 0

ग़ज़ल – तेरे ख़तो से रुह निकालने कि कोशिश की है

तेरे ख़तो से रुह निकालने कि कोशिश की है।मौजूद नहीं आप के अक्श संवारने कि कोशिश की है।बड़ी बेरुखी लेकर आया बसंत इस बार.तेरे खतो से दिल लगाने कि कोशिश की है।नागवार रहा आपकों...

रुठ जाता हूं मैं खुद से अक्सर Famous Urdu Sher of Tanhai Shayari 0

रुठ जाता हूं मैं खुद से अक्सर Famous Urdu Sher of Tanhai Shayari

रुठ जाता हूं मैं खुद से अक्सर. महफिलों में घुली तनहाइयां अक्सर. मंजर फिका- फिका कुछ दास हमसे. महफिलों में घुली रुसवाइयां अक्सर. मुझे पता तेरा आना एक बहाना था. मेरी यादों में सजी...

कब कहा मैंने ज़माना चाहता हूँ Hindi Ghazal By Imran Pathan 0

कब कहा मैंने ज़माना चाहता हूँ Hindi Ghazal By Imran Pathan

कब कहा मैंने ज़माना चाहता हूँ..होठों पर तेरा फ़साना चाहता हूँ.. ज़िन्दगी तन्हा गुज़रती जा रही है..तुझसे अब मैं दिल लगाना चाहता हूँ.. टूट जाते हैं वफ़ा के नाम पर क्यूँ..अपने दिल को आजमाना...

तेरे करीब आ गया हूँ ! लव गजल 0

तेरे करीब आ गया हूँ ! लव गजल

कैसे-कैसे मैं तेरे करीब आ गया हूँ.दोस्ती से चाहत के करीब आ गया हूं. मुझ में आ गया है हुनर तुझ में फना होने का.इश्क की कलमा पढ़ नसीब आ गया हूँ. हो गया...

इतनी रोई हैं आँखें के आँसू बहाना मुझे अब याद नहीं रहता ! हिंदी ग़ज़ल 0

इतनी रोई हैं आँखें के आँसू बहाना मुझे अब याद नहीं रहता ! हिंदी ग़ज़ल

इतनी रोई हैं आँखें के आँसू बहानामुझे अब याद नहीं रहता,आँखों में ख़ुशी के मोती पिरोना,मुझे अब याद नहीं रहता ॥ यूँ टूट कर बिखरी है कितनी तमन्नाएं,के इन ख़्वाइशों को सजाना,मुझे अब याद...

कुछ तो बात है कि अब बात नहीं करते हम !! Latest Hindi Ghazal 0

कुछ तो बात है कि अब बात नहीं करते हम !! Latest Hindi Ghazal

कुछ तो बात है कि अब बात नहीं करते हम, असर ये है कि अब खुद से मुलाक़ात नहीं करते हम। उनकी तफ़्तीश गवारा भी नहीं पर उनसे, बेतकल्लुफ़ भी सवालात नहीं करते हम।...

खामोशी में एहसास-ए-कारवाँ- हिंदी ग़ज़ल 0

खामोशी में एहसास-ए-कारवाँ- हिंदी ग़ज़ल

खामोशी खामोशी में एहसास-ए-कारवाँ,छुपा होता है,खामोश निगाहों में दिल-दीवाना,छुपा होता है,खामोश अरमानों में दर्द पुराना,छुपा होता है,खामोश काली घटाओं में,बादल-बिजली का अफसाना,छुपा होता है,खामोशी गर दूर तक साथ निभाए,तो समझों दास्ताँ-ए-राज़ गहरा है,सताए,समाज के...

रुहों का मिलन- Divine Love Hindi Poetry 0

रुहों का मिलन- Divine Love Hindi Poetry

रुहों का मिलन दो रुह यूँ घुल – मिल जाएँ ,जैसे दिन- रात मिलें ,तो साँझ बन जाए ,ख्यालों में यूँ खो जाएँ ,कि अक्स अपना देखें ,और दूजा नज़र आ जाए ,रंग -रुप...

0

प्यार पर बेहतरीन कविता

मोहब्बत  – A Divine Love Poetry Hindi   मोहब्बत रूहानी जज़्बात और है यारो,   जहाँ में ढूंँढ़े नहीं पाओगे,   रूह से रूह को मिलने दो,   जज़्बातों में बस ढलने दो,   पड़ गई...